Username:  Password:        Forgot Password? Username?   |   Register
Banner

B/W Paintings and Sketches

Birds in Flight

Botany

Drops Photography

People And Places

Sports and Events Photography

Creatures Captured

Fine Arts Colored

Featured Articles

रक्षाबंधन पर कविता - पवित्र रिश्ते को केवल धागे से मत जोड़ो

  पवित्र रिश्ते को केवल धागे से मत जोड़ो थोड़ा सा आगे बढ़ो... Read more...
Posted By rajtela1
स्वतंत्रता दिवस पर कविता -आजादी

  आजादी के पर्व को, नए सोच से मनाएँ, भूल गए है जिनको, उनका... Read more...
Posted By rajtela1
Image
English Poem on Independence Day of India

  Today is Independence DayWe are happy and gayToday we remember great soulsWho sacrificed their lives for soilWho fought for freedomAnd attained... Read more...
Posted By shashikantnishantsharma
Image
English poem on India - India

  We love our IndiaWe like IndiaIndia is like a dreamFlowing like streamWithout any stopAlways on the topOf the worldWith sons brave and boldReady... Read more...
Posted By shashikantnishantsharma
जन्माष्टमी पर कविता - जन्मास्टमी

  लल्ला कृष्ण बल कान्हा तेरी नटखट यादों का उत्सव मनाया... Read more...
Posted By shashikantnishantsharma

Most Popular Hindi Poems of Bloggers

प्रकृति पर कविता - प्रकृति तेरी अजब कृति

  प्रकृति तेरी अजब कृति नित नए तेरी आकृति खनिज त्वातों की भंडार तुझपे निर्भर ये संसार तुझमे माँ की ममता है तुझमे अजब क्षमता है तू है प्रभु की... Read more...
धूल पर कविता -- धूल का छोटा सा कण

धूल का छोटा सा कण मेरी आँख में क्या पडा जान का बवाल बन गया आँख को पानी से धोया रुमाल से पौंछा पर धूल का छोटा सा कण अपनी जिद पर अड़ गया बहुत यत्न किया पर... Read more...
किसान पर कविता -Kisaan

धूप है छाओं है जलते तेरे पाँव है धारा के विपरीत बहती तुम्हारी नाव है जिसने भूख मिटाई उसको कहते भगवान है जिसने हमको अन्न दिया,वो भारत का किसान है कभी बाढ़... Read more...
मोर पर कविता -रंगीला मोर...

आओ सुनाऊँ एक कहानी, रंग रंगीला मोर सजीला, थिरक थिरकता ठुमुक फुदकता, थोड़ा सा उड़ भी लेता था, फूलों से करता मीठी बानी,..आओ सुनाऊँ एक कहानी, उपवन का था वह... Read more...
स्वतंत्रता दिवस पर कविता -आजादी

  आजादी के पर्व को, नए सोच से मनाएँ, भूल गए है जिनको, उनका क़र्ज़  चुकाएँ देश के लिए त्याग और बलिदान, देने वालों को याद करो, आज़ादी के परवानो को, अब तो प्रणाम... Read more...

Most Popular Hindi Articles

Image
दादी माँ पर लेख - दादी ! प्यारी दादी

मेरे बचपन की मधुर यादों में एक याद यह भी है, मेरे द्वारा अपनी दादीजी को रामायण (रामचरितमानस) पढ़कर सुनाना. भगवान राम पर उनकी पूरी आस्था थी. पहले दीदी से फिर मुझसे रामायण सुनती थीं. हमारे जाने के... Read more...
Image
बंगलादेश को भारतीय भूमि देने का सत्य - हिंदी विचार

बंगलादेश को कुछ विवादों के चलते भूमि दी जा रही है, जिसके बारे में अनजान रखा जा रहा है सबको lकोई समाचार पत्र छाप रहा है की केवल 60 एकड़ भूमि ही दी गई है ?किसी का छापना है की 600 एकड़ .... 140 एकड़ .... क्या है सत्य... Read more...
Image
शिव पार्वती - भ्रष्टाचार से लड़ेगा तो मरेगा अन्ना

कैलाश पर विराजे शिव जी से माता ने पूछा क्यों प्राणनाथ ये अन्ना हजारे का क्या होगा । प्रभु ने कहा प्रिये प्रारब्ध को अपना काम करने दो आप क्यो अभी से परेशान हो रही हो । माता बोलीं वाह बेचारा भारत... Read more...
Image
एक लड़का क्या चाहता है?

देर रात ऑफिस से घर लौटा। बगल वाले कमरे की लाइट अब भी जल रही थी। वैसे जब तक मैं ऑफिस से वापस आता था तब तक पेइंग गेस्ट में सभी सो चुके होते थे। अपने कमरे में जाने ही वाला था कि साथ वाला दरवाज़ा... Read more...
Image
मुझे भारतीय होने पर गर्व नहीं है...!!

हफ्ता भर पहले ख्याल आया कि जो भाव मन में हैं उन्हें जग जाहिर कर दूं। फेसबुक ने तो वैसे भी अभिव्यक्तिकरण को सरल बना दिया है। तुरंत स्टेटस अपडेट में लिखा कि, "कभी-कभी तो लगता है कि कुछ नहीं रखा है... Read more...
Image
हास्य व्यंग्य - बाबा रामू का प्रवचन

हिंदी  हास्य व्यंग्य एक दिन सुबह सुबह श्रीमती ने फ़रमाईश रख दी- " बाबा रामू आये हुये हैं आपको हमे प्रवचन में ले चलना होगा। हमने कहा भी कि भाई आज कल बाबा रामू में पहले जैसे योग नही सिखाते है फ़ोकट... Read more...
Image
बाबा रामदेव की ट्रेनिंग - हिंदी हास्य व्यंग्य

नुक्कड़ में एक सज्जन पता पूछते पहुंचे, पूछा - "भाई वो मुफ़्त में सलाह देने वाले फ़ोकटचंद लेखक दवे जी कहां मिलेंगे"। हम तक वे पहुंचे तो मालूम पड़ा कि बाबा रामदेव नें हमें बुलाया है,  सो हम पहुंचे... Read more...
Image
हास्य व्यंग्य - ये भाजपा मुझे आत्महत्या नही करने देती

रात को  हम नुक्कड़ में टहल रहे थे कि एक कोने से एक महिला के सिसकने की आवाज आई| औरतों का दर्द हमसे देखा ही नही जाता सो हम पहुंच गये और पूछा - " क्यों सुंदरी आप क्यों रो रही हैं।"  उसने सिसकते हुये कहा... Read more...
Image
मनमोहन को सत्ता सुंदरी का पत्र

श्री मन्नूप्यारे इसलिये नहीं कहा कि अब मुझे आपसे प्यार नहीं रहा।  पिछले सभी पतियों की तरह आपकी भी फ़ोटो मेरे भूतपूर्व पतियों के साथ टंगने वाली है। इन पतियों की दो श्रेणियां हैं, ए ग्रेड... Read more...
Image
हिंदी हास्य व्यंग्य -कालू गरीब हाजिर हो

खचाखच भरे न्यायालय में  कालू को पेश होने की पुकार लगते ही अदालत में कोलाहल मच गया। कटघरे में कालू के खड़े होने के बाद,  उसके खिलाफ़ आरोपों की सूची पढ़ी गयी। पहला आरोप था बत्तीस रूपये रोज से... Read more...

Photo uploads from Group Members

Mira De Aire Caves

Wild Mushroom

Latte Art

Microscopic Photography

Ancient Splendour

Latest English Poems

Solid Ground

  I built my house on solid groundConvinced that it was safe and soundNot thinking that the earth could moveBut earthquakes happen just to... Read more...
Posted By Valerie Dohren
Someone Stole the Moon

  Someone stole the moon last nightLeft the land bereft of lightSorrow filled the sequinned skyAnd all the stars began to cryThere above as... Read more...
Posted By Valerie Dohren
Only Dreaming

  I know I was only dreamingWhen I heard you speak my nameOnly my imaginationWhich brought you to me againOh yes, just a mere illusionThat made... Read more...
Posted By Valerie Dohren
Gently In The Morning

  Gently in the morningtouch me if you will tell me that you love mewhen the day is stillKeep me close against youjust before the dawnsoothe... Read more...
Posted By Valerie Dohren
World Of Wonder

  A world of wonder waits for youJust seek and you shall findA multitude of miraclesTo captivate your mindLook far upon the ocean’s... Read more...
Posted By Valerie Dohren

Latest Hindi Poems

दुश्मन आज सारे जाने पहचाने लगते हैं

दुश्मन आज सारे जाने पहचाने लगते हैं   जब अपने चेहरे से नकाब हम हटाने लगतें हैं अपने चेहरे को देखकर डर जाने लगते... Read more...
Posted By Madans
क्राँति शब्द

थके हुए शब्दोँ से क्राँति नहीँ होगी,तोडने होँगे परंपरागत शब्दोँ के अर्थदेने होँगे पुराने शब्दोँ को नवीन ज्वलंत... Read more...
Posted By Preet Butter
क्यों हर कोई परेशां है

क्यों हर कोई परेशां है दिल के पास है लेकिन निगाहों से जो ओझल है ख्बाबों में अक्सर वह हमारे पास आती है   अपनों संग... Read more...
Posted By Madans
मेरी पोस्ट "क्यों हर कोई परेशां है" ओपन बुक्स ऑनलाइन वेव साईट में

मेरी पोस्ट "क्यों हर कोई परेशां है" ओपन बुक्स ऑनलाइन वेव साईट मेंप्रिय मित्रों मुझे बताते हुए बहुत हर्ष हो रहा है... Read more...
Posted By Madans
दिखे बदले हुए चेहरे

दिखे बदले हुए चेहरेबदलते बक्त में मुझको  दिखे बदले हुए चेहरेमाँ का एक सा चेहरा  ,  मेरे मन में पसर जातानहीं... Read more...
Posted By Madans

Active Groups


Activities
X
Please Login
Chat
X
Please login to be able to chat.
Activities
Chat (0)