Username:  Password:        Forgot Password? Username?   |   Register
Banner

यह अमृत का इक सागर है PDF Print Write e-mail
Hindi Corner - Hindi kavita
Thursday, 17 November 2011 04:12


बुद्धि पर ही जीने वाले
दिल की दुनिया को क्या जानें,
वह कुएं का पानी खारा
यह अमृत का इक सागर है !

तर्कों का जाल बिछाया है
क्या सिद्ध किया चाहोगे तुम,
जो शुद्ध हुआ मन, सुमन हुआ
वह भूलभुलैया भ्रामक है !


शिव तत्व ही सत्य जगत का है
मानव के दिल में प्रकट हुआ,
बुद्धि भी नतमस्तक होती
छलके जब बुद्ध की गागर है !

दो आँसू बन के छलक गया  
भीतर जब नहीं समाय रहा,
लेकिन जग यह क्या समझेगा
सुख के पीछे जो पागल है !

टुकुर-टुकुर तकते दो नैना
भीतर प्रज्ज्वलित एक प्रकाश,
अक्सर दुनिया रोया करती
जब तक नभ केवल बाहर है !  

Anita Nihalini

क्या आप भी कवि हैं ?? अपनी रचनाएँ इ-मेल करें " mypost@catchmypost.com" पर  |

 

 

Like and Comment

Share on Myspace
Banner

Share This Page

Some Online Users

0 users and 701 guests online

Activities
X
Please Login
Chat
X
Please login to be able to chat.
Activities
Chat (0)